December 10, 2018
  • facebook
  • twitter
  • linkedin

'नए भारत की हिंदी' में अपना स्वरुप तलाशती 'हिंदी' | कखगघ: हिंदी का उत्सव

  • by Ashutosh Kumar Singh
  • October 14, 2018

यूँ तो आंकड़ों की बात की जाए तो कई ऐसे आँकड़े हैं, जो यह साफ़ दर्शाते हैं कि वर्तमान में इंटरनेट में हिंदी की लोकप्रियता तेजी से बढ़ रहीं है।इतना ही नहीं हाल ही में किये गये कुछ सर्वे के मुताबिक इंटरनेट के विभिन्न आयामों में आने वाले दिनों में हिंदी और अन्य भारतीय भाषाओँ का उपभोग 50% से अधिक की दर के साथ बढ़ता नज़र आएगा।

हिंदी के इसी प्रसार पर एक व्यापक चर्चा के लिए डायलॉग इनिशिएटिव फाउंडेशन द्वारा हिंदी दिवस पर एक परिचर्चा “कखगघ : हिंदी का उत्सव” का आयोजन किया गया। कांस्टीट्यूशन क्लब नई दिल्ली में आयोजित हुए इस इवेंट हिंदी के विभिन्न आयामों पर चर्चा करने के लिए कई बड़े नाम शुमार हुए रहा है। इन नामों में कहानीकार और गीतकार नीलेश मिसरा, टीवी निर्माता, अनिरुद्ध पाठक, अहमद फारुखी, अभिनेता, यशपाल शर्मा से लेकर नीलोत्पल मृणाल जैसे युवा लेखक शामिल रहे।

READ  सतीश कौशिक ने ग्रामीण भारत के लिए की "मोबाइल सिनेमाघरों" की शुरुआत की

इस कार्यक्रम की एक विशेषता यह भी रही है कि संभवतः पहली बार हिंदी के किसी मंच पर गूगल, माइक्रोसॉफ्ट, यूट्यूब, स्टार इंडिया जैसी वैश्विक कंपनियों के शीर्ष नेतृत्व के प्रतिनिधि भी मंच पर इंटरनेट पर हिंदी भाषा को लेकर मंथन करते नज़र आए।

इस मौके पर WittyFeed के सीईओ विनय सिंघल, Innov8 के संस्थापक रितेश मलिक, MyUpchar के संस्थापक रजत गर्ग भी मौजूद रहे और हिंदी के होते व्यापारीकरण पर अपने अपने विचार प्रकट किये है।