GREE Ventures, ने STRIVE रीब्रांडिंग कर की $ 130M की फंडिंग

  • by Yogesh
  • May 15, 2019

टोक्यो और सिंगापुर स्थित GREE वेंचर्स ने घोषणा की है कि उसने स्ट्राइव (STRIVE) के साथ रीब्रांड किया है। साथ ही जनरल पार्टनर युसुके अमानो  और तात्सुओ त्सुत्सुमी के नेतृत्व में कंपनी ने निखिल कपूर को एक पार्टनर के रूप में पदोन्नत किया है।

वहीं फर्म ने अपने $ 130 मिलियन के तीसरे फंड, स्ट्राइव(STRIVE) III के पहले क्लोजर की भी घोषणा की है, और फर्म अब 2019 के अंत तक अंतिम योजना बनाने का प्लान बना रही है। बता दें कि STRIVE ने  इस फंड से पहले ClassPlus (भारत में edutech platform) और TrustDock (जापान) में अपना पहला निवेश किया है।

मिली जानकारी के अनुसार कंपनी के तीसरे फंड में शामिल हुए प्रमुख निवेशकों में एसएमई सपोर्ट जापान (SME Support JAPAN) जो कि जापान के अर्थव्यवस्था, व्यापार और उद्योग मंत्रालय का एक हिस्सा है, जीआरईई इंक (GREE Inc), और मिज़ो फाइनेंशियल ग्रुप (Mizuho Financial Group) के सदस्य शामिल हैं, जिनमें मिज़ूहो बैंक(Mizuho Bank) और मिज़ूओ कैपिटल (Mizuho Capital) शामिल हैं। और अब स्ट्राइव (STRIVE) दक्षिण पूर्व एशियाई और भारतीय बाजारों में अपने निवेश के लिए जापान के बाहर एलपी के साथ बातचीत कर रहा है।

READ  "SpotDraft" को मिला $1.5 मिलियन का निवेश

बता दें कि फर्म ने क्षेत्र भर के अन्य प्रमुख VCs के साथ सह-निवेश भी किया है, जिसमें सेकोइया कैपिटल (Sequoia Capital), मोंक के हिल वेंचर्स (Monk’s Hill Ventures), नेक्सस वेंचर पार्टनर्स (Nexus Venture Partners), चिरेटे  वेंचर्स(Chiratae IDGVentures), कलारी कैपिटल (Kalaari Capital), टाइम्स इंटरनेट (Times Internet) और गोल्डन गेट फ्यूचर (Golden Gate Ventures) शामिल हैं।

वहीं STRIVE ने वैश्विक स्तर पर Saleswhale और Healint जैसी कंपनियों में निवेश किया है जो  कि स्टार्टअप और बड़े उद्यमों दोनों को अत्याधुनिक तकनीकों को अपने वर्कफ़्लोज़ को अपनाने में सक्षम हैं। स्थानीय बाजारों में, इसने Kudo (GRAB द्वारा अधिग्रहित), BuildSupply, और पाई (Google द्वारा अधिग्रहित) जैसी कंपनियों में निवेश किया है जो कि एसएमई को तेजी से बढ़ते एशियाई उपभोक्ता आधार पर प्रौद्योगिकी का लाभ उठाने के लिए सशक्त बनाती है।

READ  भारत में पिछले चार सालों में इंटरनेट उपयोगकर्ता बढ़कर 800 मिलियन पर पहुंचे: मैकिन्से

वहीं इस फंडिंग को लेकर स्ट्राइव (STRIVE) ने कहा कि उसका पहला फंड जो कि 2014 में दिया गया था, ने इस क्षेत्र में सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाला फंड रहा है, वहीं दूसरे फंड में कई कंपनियां हैं, जिसमें भारत में पॉपएक्सओ (PopXO), सिंगापुर में सेल्सव्हेल (Saleswhale) और इंडोनेशिया में आयोपॉप (Ayopop) शामिल हैं।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *