Indian Oil के नेट प्रॉफिट में जबरदस्तफ उछाल, 17 फीसदी बढ़कर ₹6099 करोड़ रहा मुनाफा

  • by Yogesh
  • May 18, 2019

तेल कंपनी इंडियन आयल कारपोरेशन (Indian Oil Corporation) का शुद्ध लाभ फाइनेंशियल ईयर में 2018-19 की चौथी तिमाही में 17 फीसदी बढ़कर 6,099.27 करोड़ रुपए हो गया है,

बता दें कि शुक्रवार को इंडियन आयल कारपोरेशन (Indian Oil Corporation) ने शेयर बाजार को दी सूचना में कहा कि इससे पूर्व फाइनेंशियल ईयर 2017-18 की इसी तिमाही में कंपनी का शुद्ध लाभ 5,218.10 करोड़ रुपए था।

इस बात की जानकारी देते हुए इंडियन आयल कारपोरेशन (Indian Oil Corporation) ने एक बयान में बताया गया है कि “कंपनी का कारोबार पिछले फाइनेंशियल ईयर की पहली तिमाही में बढ़कर 1.44 लाख करोड़ रुपए हो गया था, जो कि 1 साल पहले फाइनेंशियल ईयर की पहली तिमाही में 1.37 लाख करोड़ रुपए था, इस अवधि में एवरेज ग्रॉस मार्जिन (Average gross margin) गिरकर 5.41 डॉलर प्रति बीबीएल रह गया था, कंपनी का EBITDA 10,876 करोड़ रुपए रहा था।

READ  Next 10 Ventures ने ऑनलाइन क्रिएटर्स के लिए जारी किया $50 मिलियन का फंड

बता दें कि कंपनी के बोर्ड निदेशकों ने एक रुपए प्रति शेयर का डिविडेंड (Dividend) घोषित किया है, यह 8.25 रुपए प्रति शेयर के अंतरिम डिविडेंड (Dividend) के अतिरिक्‍त होगा, कंपनी के शेयरों में दोपहर को 1 फीसदी की तेजी देखी गई थी।

गौरतलब है कि देश में पेट्रोलियम उत्पादों के विरतण में 90 फीसदी बाजार हिस्सेदारी सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों के हाथ में है, फिलहाल बाजार में इंडियन आयल कारपोरेशन (Indian Oil Corporation), हिंदुस्‍तान पेट्रोलियम कारपोरेशन लिमिटेड (Hindustan Petroleum Corporation Limited) और भारत पेट्रोलियम कारपोरेशन लिमिटेड (Bharat Petroleum Corporation Limited) का कब्जा है, बता दें कि देश में कुल 64,624 पेट्रोल पंपों में से 57,944 पेट्रोलपंपों पर इन्हीं कंपनियों का नियंत्रण है,

READ  आज भारत में लॉन्च होगा Nokia 8.1, स्पेसिफिकेशंस और क़ीमत हुए सार्वजनिक

देश में फाइनेंशियल ईयर 2018-19 में कुल 21 करोड़ 16 लाख टन पेट्रोलियम उत्पादों की खपत हुई, जो कि पिछले साल 20 करोड़ 62 लाख टन थी, वहीं इससे पहले फाइनेंशियल ईयर 2015-16 में ये 18 करोड़ 47 लाख टन रही थी।

हालांकि कच्चे तेल का उत्पादन तेल की खपत के मुकाबले काफी कम है, लेकिन कच्चे तेल को विभिन्न उत्पादों में बदलने के मामले में देश में अधिशेष की स्थिति है, वहीं, पिछले फाइनेंशियल ईयर में पेट्रोलियम उत्पादों का प्रोडक्‍शन 26.24 करोड़ टन रहा था।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *