JustDial पर विज्ञापनों के लिए उपयोगकर्ता डाटा के उपयोग का आरोप, डाटा ब्रीच की भी संभावना

  • by Ashutosh Kumar Singh
  • April 16, 2019

हाल ही के दिनों में डाटा ब्रीच की घटनाएं काफ़ी आम सी होती जा रहीं हैं। दरसल आज तकनीकी आयामों पर आधारित कंपनियां अपने राजस्व को लेकर इस कदर खो जाती हैं कि उन्हें अपने प्लेटफ़ॉर्म और अपने उपयोगकर्ता डाटा की सुरक्षा से भी समझौता करने में कोई गुरेच नहीं होता।   

और अब एक ऐसा ही उदाहरण सामने आया है, मुंबई आधारित हाइपरलोकल सर्च इंजन प्लेटफ़ॉर्म JustDial के साथ। दरसल एक सुरक्षा शोधकर्ता ने दावा किया है कि जस्टडायल (JustDial) के डेटाबेस में एक बड़ी सुरक्षा खामी है, जिसने करीब 100 मिलियन से अधिक उपयोगकर्ताओं के डेटा को उजागर किया है।

दरसल एक ऑनलाइन मीडिया पोर्टल की रिपोर्ट के मुताबिक यह ख़ुलासा राजशेखर राजाहरिया के द्वारा किया गया है। उन्होंने इस जानकारी को फेसबुक में एक पोस्ट के जरिये सार्वजानिक कि और इसके साथ ही साथ उन्होंने कुछ स्क्रीनशॉट भी शेयर किये। 

इस बीच राजशेखर ने यह भी कहा कि जस्टडायल (JustDial) के उपयोगकर्ता डेटा को 2015 से ऐसे ही असुरक्षित रूप से संग्रहीत किया जा रहा है। 

इसके साथ ही उन्होंने कंपनी पर आरोप लगाते हुए कहा कि कंपनी अपने उपयोगकर्ताओं की सर्च हिस्ट्री को सेव रखती है। और उनकी इस जानकारी का इस्तेमाल टार्गेटेड एड्स चलाने के लिए करती है। 

खैर! इस बीच देखना यह है कि JustDial इस विषय पर kya सफ़ाई प्रस्तुत करता है? क्यूंकि 100 मिलियन से अधिक उपयोगकर्ता डेटा को ऐसे ही असुरक्षित ढंग से संग्रहित करना (जिसमें लोगों के नाम, ईमेल, मोबाइल नंबर, लिंग, जन्मतिथि, पता, फोटो, कंपनी, व्यवसाय और अन्य विवरण शामिल हैं), बहुत ही गंभीर विषय है। 

दरसल हम आपको ऐसा इसलिए भी कह रहें हैं कि हम ऐसे ही आरोपों के चलते फेसबुक जैसे वैश्विक कंपनी का हश्र देख चुकें हैं। तो ऐसे में अब देखना यह है कि यह भारतीय स्टार्टअप इन खामियों को कितनी गंभीरता दे लेता है?

Loading...

नई तकनीकों और विचारों के समायोजन को तलाशता मुसाफ़िर, जिसका मानना है कि उद्यमशीलता और प्रौद्योगिकी मिलकर ही विकास और विस्तार का अवसर प्रदान करतीं हैं
  • facebook
  • twitter
  • linkedIn
  • instagram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *