OYO ने होटलों को दी धमकी, “अगर किया बुकिंग का बहिष्कार तो कंपनी करेगी क़ानूनी कार्यवाई”

  • by Ashutosh Kumar Singh
  • January 12, 2019

पिछले कुछ महीनों से होटलों ने खुलें तौर पर ऑनलाइन होटल बुकिंग प्लेटफ़ॉर्म, OYO का जमकर विरोध करना शुरू कर दिया है। और अब इसका साफ़ सा असर OYO के व्यापार में पड़ता नज़र आने लगा है।

शायद यही वजह है कि कई बार अपनी सफ़ाई पेश कर चुकी OYO ने अब धमकी भरे लहज़े में होटलों को चेतावनी दी है। अगर होटलों ने प्लेटफ़ॉर्म पर मिली बुकिंग का बहिष्कार किया तो OYO उनपर क़ानूनी कार्यवाई करेगी।

होटलों ने दी थी OYO के खिलाफ़ क़ानूनी कार्यवाई और विरोध प्रदर्शन की चेतावनी

दरसल हम आपको बता दें कि पिछले कुछ समय से देश के बजट श्रेणी के होटल (जिनकी मांग बेशक ही सबसे  अधिक है) OYO और MakeMyTrip जैसे प्लेटफ़ॉर्मो के द्वारा वसूले जा रहें मनमाने चार्जे, भारी डिस्काउंट और मोटे कमीशन की शिकायत करते आ रहें हैं।लेकिन स्वाभाविक रूप से किसी भी होटल के लिए $5 बिलियन के मूल्यांकन वाली किसी कंपनी से खिलाफ़ अकेले लड़ना काफ़ी कठिन काम है।

जिसके चलते आक्रामक रुख अपनाते हुए फेडरेशन ऑफ होटल्स एंड रेस्टोरेंट एसोसिएशन ऑफ इंडिया (FHRAI) ने सॉफ्टबैंक समर्थित फर्म, OYO के खिलाफ देशव्यापी विरोध प्रदर्शन और क़ानूनी कार्यवाई की की धमकी भी दी थी।

OYO का “देशव्यापी बहिष्कार” करने के लिए बजट होटलों ने बनाया ‘नया संगठन

इसके साथ ही हाल ही में मुंबई के बजट होटल एसोसिएशन ने एक नए अखिल भारतीय संगठन का भी का गठन किया है, जिसे होटल एसोसिएशन कन्फेडरेशन ऑफ़ इंडिया (HACI) का नाम दिया गया है। और इस नए एसोसिएशन ने OYO के खिलाफ़ देशव्यापी बहिष्कार की पहल शुरू की है।

READ  OYO राज्य सरकारों को देगी होटलों में ठहरने वाले ग्राहकों की 'रियल-टाइम अपडेट'

अब OYO ने दी होटलों को क़ानूनी कार्यवाई की धमकी

लेकिन अब इस एसोसिएशन की धमकी के जवाब में, OYO ने अपने प्लेटफॉर्म पर बुकिंग का बहिष्कार करने पर होटलों को अनुबंध के उल्लंघन के रूप में सख्त कानूनी कार्रवाई की चेतावनी दी है।

इसके साथ ही OYO ने यह भी कहा है कि उसने अपनी किसी भी फ्रैंचाइज़ी से कोई औपचारिक शिकायत या वार्ता का प्रस्ताव प्राप्त नहीं किया है। वहीं सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, OYO ख़ुद होटल मालिकों से एक-एक कर बात कर इस मामले का समाधान निकालने की कोशिश कर रहा है।

यह है विवाद

इस बीच हम आपको बता दें कि पिछले महीनें OYO पर मनमानी और बजट होटलों के शोषण का आरोप लगाते हुए होटल एसोसिएशन ऑफ़ मुंबई के प्रेसिडेंट, अशरफ अली ने कहा था,

“OYO इस बाज़ार क्षेत्र को तेजी से तबाह कर रहा है। जो रूम 2,000 से 2,500 रूपये में दिए जाते थे, उन्हें पहले तो 800 से 900 रूपये में दिया जाने लगा। मोटी फंडिंग हासिल कर चुके इस स्टार्टअप को भले ही इससे ज्यादा नुकसान न होता हो। लेकिन होटलों को इन सब के बीच कमीशन इत्यादि के चलते काफी नुकसान झेलना पड़ता है।”

हालाँकि इस पर OYO के प्रवक्ता ने कहा,

“हम हमेशा ही निष्पक्षता के साथ खड़े हैं, भले ही यह हमारे ग्राहकों के लिए सस्ती कीमतों पर गुणवत्ता वाले होटलों की पेशकश की बात हो, या संपत्ति मालिकों या फ्रेंचाइजी को उचित कीमत और सहुलियत प्रदान करने की बात हो।”

दरसल महज़ OYO ही नहीं बल्कि Goibibo और MakeMyTrip समूह भी FHRAI ने ऐसे ही कुछ आरोप लगायें थे। एसोसिएशन ने इन प्लेटफ़ॉर्मो पर शोषणकारी, अनैतिक और विभाजनकारी व्यापारिक प्रथाओं के शुरू करने का आरोप लगाया है।

READ  Paytm और Tencent कर सकते हैं MX Player में $125M का निवेश

खबर यह भी है कि FHRAI इस मामले पर सीसीआई (भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग) और पर्यटन मंत्रालय से भी संपर्क साध मसले को हल करने संबंधी अनुरोध की योजना बना रहा है।

हालाँकि इस बीच खबर यह भी थी कि इन सबके चलते OYO के रूम 40% तक महँगे हो सकतें हैं। लेकिन अब तक इसपर कोई अधिकारिक मोहर नहीं लगाई गई है।

Loading...

नई तकनीकों और विचारों के समायोजन को तलाशता मुसाफ़िर, जिसका मानना है कि उद्यमशीलता और प्रौद्योगिकी मिलकर ही विकास और विस्तार का अवसर प्रदान करतीं हैं
  • facebook
  • twitter
  • linkedIn
  • instagram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *