January 21, 2019
  • facebook
  • twitter
  • linkedin

हम ‘गरीब आबादी’ वाला एक ‘अमीर देश’ हैं: नितिन गडकरी

  • by Ashutosh Kumar Singh
  • January 11, 2019

हाल के दिनों में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी अपने कई बयानों की वजह से सुर्ख़ियों में रह रहें हैं। दरसल अपनी स्पष्ट छवि और वक्तव्य के लिए जाने जाने वाले गडकरी ने बीते शनिवार को एक ऐसी ही बात कही। 

दरसल केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी शनिवार को राज्यसभा सदस्य और उद्यमी राजीव चंद्रशेखर के साथ आईआईटी-पवई के एक वार्षिक कार्यक्रम में शामिल होने से पहले एक इंटरव्यू दिया। जिसमें उन्होंने कहा, 

“देश के गरीब देश होने के पीछे दृष्टिहीनता और भ्रष्ट शासन तंत्र ही मुख्य कारण हैं। हमें एक उपयुक्त आर्थिक नीति की आवश्यकता है, जिसके साथ हम भारत को आर्थिक रूप से मजबूत देश में बदल सकें।”

दरसल आईआईटी-पवई के ई-सेल द्वारा यह कार्यक्रम 19 से 20 जनवरी को आयोजित किया जा रहा है है। इस बीच गडकरी ने यह भी कहा कि उन्हें आईआईटी के छात्रों पर पूरा भरोसा है। साथ ही उन्होंने कहा कि नवाचार, उद्यमिता, विज्ञान और प्रौद्योगिकी, अनुसंधान और कौशल-ज्ञान, और ज्ञान ही भविष्य में देश ही आर्थिक स्थिति को मजबूत करने में सहायक हैं। 

इसके साथ ही गडकरी ने कहा राजनीति में “गुणात्मक नेतृत्व” की आवश्यकता थी। जिससे सामाजिक-आर्थिक सुधार लाने में मदद मिले। साथ ही बई-पुणे एक्सप्रेसवे सहित कई फ्लाईओवर का उदाहरण देते हुए गडकरी ने कहा कि उन्होंने उन्हें ऐसे समय में बनाया है जब उन्हें अर्थव्यवस्था और सिविल इंजीनियरिंग के बारे में ज्यादा समझ नहीं थी। फिर भी उन्होंने जोखिम लेने की अपनी क्षमता के कारण यह सब करने में सफ़लता हासिल की। 

इसके साथ ही गडकरी ने कहा,

“मूल सिद्धांत यह है कि अच्छा काम करने वालों को सम्मानित किया जाना चाहिए और बुरे काम करने वालों को दंडित किया जाना चाहिए।” 

“प्रौद्योगिकी बनाई जा सकती है, संसाधनों को संचित किया जा सकता है, लेकिन इन्हें एक सक्षम नेतृत्व को गुणों के जरिए ही विकसित किया जा सकता है।”

नई तकनीकों और विचारों के समायोजन को तलाशता मुसाफ़िर, जिसका मानना है कि उद्यमशीलता और प्रौद्योगिकी मिलकर ही विकास और विस्तार का अवसर प्रदान करतीं हैं
  • facebook
  • twitter
  • linkedIn
  • instagram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *