August 8, 2020
  • facebook
  • twitter
  • linkedin
video conffrencing airmeet

प्रोफेशनल्स के लिए इवेंट और वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग का दूसरा नाम बन चुका है Airmeet

COVID-19 महामारी की वजह से पूरी दुनिया में जैसे हालात बनें, उनके चलते पूरी दुनिया को डिजिटल सुविधाओं की अहमियत का एहसास ज़रूर हुआ, फिर चाहे वो डिजिटल लर्निंग की बात हो, डिजिटल पेमेंट की या फिर डिजिटल मनोरंजन, तमाम मौजूदा ऐप्स और प्लेटफ़ोर्म लोगों की अलग-अलग परेशानियों का हल तलाशते नज़र आए।

लेकिन इन सब के बीच प्रोफेशनल लाइफ़ भी बहुत अधिक प्रभावित हुई, कंपनियों के कामकाज का तरीक़ा पूरी तरह से बदलता नज़र आया, कभी ऑफ़िस में कर्मचारियों को बुलाकर मीटिंग रूम में होने वाली बातचीत की जगह अधिकतर ऑनलाइन कॉन्फ्रेंस कॉल ने ले ली। यहाँ तक की ऑफ़लाइन होने वाले कॉन्फ्रेंस, सेमिनार और आदि भी ऑनलाइन प्लेटफ़ोर्म की तलाश में जुट गए।

और इसी के चलते बिज़नेस इंडस्ट्री में सबसे चहेती डिजिटल सुविधाओं में से एक बनकर उभरी ऑनलाइन ऑनलाइन वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की सुविधा। स्वाभाविक रूप से लगातार हर हफ़्ते Video Conferencing प्लेटफ़ोर्म और ऐप्स की माँग बढ़ती गई। आपको बता दें मार्च 14 से मार्च 21 तक की Enterprise फ़ोकस मोबाइल ऐप्स के डाउनलोड 62 मिलियन के पार चले गये थे।

आपको बता दें App Annie की एक रिपोर्ट के मुताबिक़ इन आँकड़ो में साफ़ तौर पर 45% से भी अधिक की बढ़त दर्ज की गई।

लेकिन जैसे जैसे इन सुविधाओं की माँग बढ़ी वैसे वैसे उपयोगकर्ताओं ने भी इन प्लेटफ़ोर्म की सुविधाओं को परखना शुरू किया और बाज़ार में मौजूद तमाम प्लेटफ़ोर्म आदि को सुरक्षा, प्राइवेसी, सरलता और इंटरफ़ेस जैसे अहम पैमानों में तौलते हुए ही इनको अपनाने का काम शुरू किया।

लेकिन इन सभी के बीच भारत में एक नाम जो तेज़ी से बढ़ता नज़र आया, वह रहा Airmeet का, जी हाँ! प्रोफ़ेशनल्स के लिए बतौर एक Events Platform के रूप में तेज़ी से उभरने वाला Airmeet असल में कम्यूनिटी और संस्थाओं के लिए उनकी ऑनलाइन वर्कशॉप, इवेंट और मीट-अप आदि के लिए एक बेहद आसान और इंटरैक्टिव सुविधाओं से लैस प्लेटफ़ोर्म साबित हुआ है। 

ख़ास यह है कि Airmeet का मुख्य लक्ष्य ही है प्रोफेशनल्स को एक बेहद आसान और सभी ज़रूरी सुविधाओं से लैस वर्चुअल इवेंट्स प्लेटफॉर्म देना। देखा जाए तो Airmeet को मुख्यतः बिज़नेस इंडस्ट्री और लीडर्स को ध्यान में रखते हुए ही डिज़ाइन किया गया है।

लेकिन Airmeet के अनुसार इसकी सबसे बड़ी ख़ासियत है इसका “सोशल लाउंज” (Social Lounge), जो प्रतिभागियों को दिलचस्प रूप से समान विचारधारा वाले लोगों को खोजने और उनसे वास्तविक कनेक्शन स्थापित करने में मदद करता है। और इतना एक नहीं यह प्लेटफ़ोर्म आपको LIVE ब्रॉडकास्ट के साथ ही साथ अत्यधिक स्केलेबल, सुरक्षित क्लाउड आधारित संचालन प्रदान करता है।

लेकिन इतना ही काफ़ी नहीं है, कंपनी अपने इस वर्चुअल इवेंट्स प्लेटफॉर्म पर कम्यूनिटी मैनेजरों, इवेंट आयोजकों, सोशल मीडिया या कंटेंट मार्केटर्स के लिए सबसे अनुकूल बताती है, जो शायद इस वक़त इंटरनेट पर सबसे अधिक एक्टिव व अहम उपयोगकर्ताओं में से एक हैं। साथ ही साथ शिक्षकों और वर्कशॉप/बूटकैम्प आयोजकों के लिए भी यह एक बेहतरीन मंच साबित होता नज़र आता है।

आपको बता दें Airmeet की स्थापना 2019 में IIT के पूर्व छात्र और Commonfloor के सह-संस्थापक रहे ललित मंगल ने विनय कुमार जस्सी और मनोज कुमार सिंह के साथ मिलकर की थी।

Airmeet Demo from nitin on Vimeo.

 

दरसल इन प्लेटफ़ोर्म के निर्माण के पीछे इनका मक़सद वास्तविक रूप से दूर होती दुनिया को डिजिटल आयामों में मज़बूत, सुरक्षित और आसान कनेक्शन स्थापित करने में मदद करने का था। और इसी सोच के साथ इन सबनें मिलकर ऑनलाइन मीटिंग, नेटवर्किंग और कॉन्फ्रेंस जैसी मौजूदा वक़्त की सबसे अहम माँग के लिए एक मज़बूत विकल्प पेश किया।

ज़ाहिर है अपने इस मक़सद के ज़रिए Airmeet ने कई कम्यूनिटियों को आईडिया शेयर करने और रियल कनेक्शन बनाने में मदद भी की और लगातार कर भी रहा है। सबसे दिलचस्प बात यह है कि इसके ग्राहकों की सूची में Redpoint (अमेरिका), Florida International University (अमेरिका), Accel Partners, IET (भारत), Nasscom (भारत) और BARK (जापान)  जैसे अन्य कई बड़े नाम शुमार हैं।

Founder & Editor-In-Chief | Founded in 2017, TechSamvad is the only Media Platform reporting in Technology, Startups, and Business domain in Hindi.
  • facebook
  • twitter
  • linkedIn
  • instagram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *