बीजेपी ने मेनिफेस्टो में किया 20,000 करोड़ के ‘सीड स्टार्टअप फंड’ और ‘एंजेल टैक्स’ में बदलाव करने का वादा

चुनावों का मौसम काफी पास है, और ऐसे में राजनैतिक पार्टियों द्वारा वादों की बौछार का सिलसिला शुरू हो गया है। और अब इसी श्रृंखला में तकनीकी और स्टार्टअप जगत को भी लुभाने की कोशिशें तेज हो गई हैं।   

दरसल कुछ ही दिन पहले सार्वजानिक किये गये भारतीय जनता पार्टी (BJP) के घोषणा पत्र (मेनिफेस्टो) में भारत में स्टार्टअप इकोसिस्टम को मजबूत करने की दिशा में कई वादे किये हैं।

इन वादों में स्टार्टअप और MSME क्षेत्र को मजबूत बनाने के लिए 20,000 करोड़ रूपये के सीड स्टार्टअप फंड और खुद के ही बनाये गए एंजेल टैक्स में बदलाव संबंधी वादे किये गयें हैं

इसके साथ ही महिला उद्यमियों के नए उद्यम के लिए 50 लाख रुपये तक के गारंटी-मुक्त ऋण प्रदान करने और पुरुष उद्यमियों को 25 प्रतिशत गारंटी-मुक्त ऋण प्रदान करने संबंधी वादे भी बीजेपी के इस घोषणा पत्र में शामिल हैं।

इसके साथ ही मुद्रा योजना के तहत ऋण लेने वाले उद्यमियों की संख्या का वर्णन करते हुए, पार्टी ने 2024 तक 300 मिलियन युवा व्यवसायियों को ऋण देने का वादा किया।

इसके साथ ही अपने इस घोषणा पात्र में भाजपा ने अगले पांच वर्षों में कम से कम 50,000 नए स्टार्टअप और 500 नए इनक्यूबेटर के साथ ही एक्सेलेरेटर स्थापित करने की सुविधा का भी वादा किया है। घोषणापत्र में शहरी स्थानीय निकायों में 100 स्टार्टअप केंद्र बनाने का भी वादा किया गया है।

खैर! अब देखना यह है कि क्या स्टार्टअप जगत इन राजनैतिक पार्टियों मिएँ से इसके वादों इत्यादि से लुभान्वित होकर अपना वोट देगा? क्यूंकि इस बीच कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने भी एंजेल टैक्स और तीन साल तक बिना सरकारी अनुमति  सहित कई ने मुद्दों को लेकर उद्यमियता जगत से वादे किये हैं

बहरहाल किनको अपने वादों को निभाने का मौका मिलेगा यह तो 23 मई को चुनाव नतीजों के आने के बाद ही पता चलेगा। लेकिन तब तक के लिए ऐसी हर एक अपडेट के लिए आप जुडें रहें Techसंवाद के साथ। 

Loading...

नई तकनीकों और विचारों के समायोजन को तलाशता मुसाफ़िर, जिसका मानना है कि उद्यमशीलता और प्रौद्योगिकी मिलकर ही विकास और विस्तार का अवसर प्रदान करतीं हैं | Founder & Editor-In-Chief (TechSamvad)
  • facebook
  • twitter
  • linkedIn
  • instagram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *