July 12, 2020
  • facebook
  • twitter
  • linkedin

BookMyShow कोरोना महामारी संकट के बीच अपने 270 कर्मचारियों को दिखाएगी बाहर का रास्ता

इस कोरोना महामारी का कहर अब धीरे धीरे विस्तार रूप लेता जा रहा है। अब धीरे धीरे कंपनियों द्वारा कर्मचारियों को निकालने की रफ़्तार तेज़ होती जा रही है। बता दें कि विगत 24 मार्च से पूरा देश मानों ठप्प पड़ा हुआ है। ऐसी स्थिति में कंपनियों पर बुरा असर देखने को मिला है।

ऑनलाइन टिकट बुकिंग कंपनी BookMyShow ने अपने 270 कर्मचारियों को कंपनी से बाहर निकाल दिया है। इस महामारी के दौरान कंपनी पर काफ़ी बुरा असर देखने को मिला है बीते 24 मार्च से ही देश के सारे सिनेमा हॉल और होटल बंद पड़े हुए है। ऐसी स्थिति में कंपनी काफी घाटे में चली गई है।

इकनॉमिक टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार कंपनी के चीफ़ एक्जीक्यूटिव आशीष हेमरजानी ने कर्मचारियों को ईमेल में लिखा कि हमलोगों को यह फ़ैसला लाचार होकर लेना पड़ रहा है और इस प्रतिकूल वातावरण के कारण कंपनी के वर्कलोड को कम करना हमसभी की मजबूरी है। हेमरजानी ने अपने ईमेल में यह भी कहा कि आज हमलोग जिस परिस्थिति का सामना कर रहे है उसे आपसबों के साथ साझा करना काफी असुविधाजनक और दुर्भाग्यपूर्ण है। यह निर्णय हमने इस परिस्थिति को देखते हुए लिए है।

उन्होंने अपने ईमेल के यह भी लिखा कि पूरे देश में कुल 1,450 कर्मचारियों ने से करीब 270 कर्मचारियों को कंपनी से निकाला जा रहा है। इस निर्णय से इनसभी लोगों पर इसका प्रभाव देखने को मिलेगा।

साल 2018 में कंपनी ने करीब $800 मिलियन का कारोबार किया था और इन कारोबार में एक से बढ़कर एक निवेशकों ने इनका साथ दिया था। इन निवेशकों में SAIF Partners, TPG Growth और Accel Partners शामिल है। वैसे कंपनी ने अभी तक कर्मचारियों के निकाले जाने की ब्रेकअप संख्या का जिक्र नहीं किया और किन्हें छुट्टी पर भेजा गया है इसकी भी जानकारी नहीं दी है।

साल 1999 में BookMyShow की स्थापना करने वाले हेमरजानी ने कमर्चारियों को कहा कि जितने भी लोगों को बाहर निकाला जा रहा है उन्हें 2 महीने का वेतन और नोटिस अवधि में जो ज्यादा होगा उसे दिया जाएगा। उनलोगों को 30 सितंबर तक परिवार के सदस्य के साथ कंपनी मेडिकल सुरक्षा और अन्य तरह की सुविधाएं प्रदान करेगी। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि जिनको कुछ समय के लिए छुट्टी पर भेजा गया है वो आगे कंपनी में नौकरी कर सकते है और वो भी सभी प्रकार के मेडिकल सुरक्षा, ग्रैच्युटी और अन्य सुविधाओं प्राप्त करने के हकदार है।

हेमरजानी ने कर्मचारियों को अपने ईमेल में लिखा कि हमलोग सभी प्रकार के खर्चों पर भी लगाम लगा रहे है और जितना संभव है उतना बचत के उपायों पर ध्यान दे रहे है। हमलोगों ने यह निर्णय अंतिम समय में लिया जब हमारे पास कोई और विकल्प मौजूद नहीं था।

अब देखना यह होगा कि आगे आने वाले समय में और कितनी कंपनियां इस लीग में शामिल होती है। पहले भी हमने देखा कि कैसे एक से बढ़कर एक कंपनियां कर्मचारियों की छंटनी में लगा हुआ है और अभी भी यह जारी है। इस महामारी ने कंपनियों को भी आफत में ला खड़ा कर दिया है।

Abhinav Narayan is presently a student of Law from Amity Law School, Noida; and is a vastly experienced candidate in the field of MUNs and youth parliaments. The core branches of Abhinav's expertise lies in Hindi writing, he writes Hindi poems and is a renowned orator. He is currently the President of the Hindi Literary Club, Amity University.
  • facebook

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *