Google ने किया Allo को बंद करने का ऐलान, लांच करेगी SMS की तर्ज़ पर एक नई मैसेजिंग सेवा

बीते अप्रैल से गूगल (Google) द्वारा Allo ऐप का डेवलपमेंट रोकने के बाद से ही ऐसी संभावनाएं जताई जा रहीं थीं कि कंपनी जल्द ही इसको बंद करने का ऐलान कर सकती है।

दरसल काफ़ी बीते कुछ महीनों से गूगल अपनी इस मैसेजिंग ऐप को लेकर खामोश सा हो गया था। लेकिन अब प्रत्याशित रूप से अपनी चुप्पी तोड़ने हुए गूगल ने अब अपने इस मैसेजिंग प्लेटफ़ॉर्म को बंद करने का ऐलान किया है।

जी हाँ! अब मार्च 2019 के बाद Google अपनी इस मैसेजिंग सेवा को बंद कर देगा। तो अगर आप इसका इस्तेमाल करते हैं, तो आपके पास अपने चैट संबंधी बैकअप लेने के लिए अभी पर्याप्त समय है।

READ  होटल बुकिंग सेक्टर में Google ने ख़ामोशी से रखा क़दम

दरसल लांच के बाद से ही Google की यह Allo ऐप अपना नाम कमाने में सफ़ल तो हुई, लेकिन यह उपयोगकर्ताओं को प्लेटफ़ॉर्म अनुभव के हिसाब से कुछ अधिक आकर्षित नहीं कर सकी। और शायद यही कारण है कि गूगल भी अपनी इस ऐप से अपेक्षित तौर पर खुश नहीं था। और सूत्रों के मुताबिक कंपनी भी लगातार नए सिरे सेशानदार और अनोखे फीचर के साथ एक मैसेजिंग प्लेटफ़ॉर्म लांच करने की योजना बना रही है।

कुछ रिपोर्ट के मुताबिक गूगल फ़िलहाल RCS (Rich Communication Services) आधारित नई चैटिंग ऐप हेतु कार्य कर रहा है। यह ऐप स्मार्ट रिप्लाई, GIF सपोर्ट जैसी क्षमताओं से लैस हो सकती है।

READ  UClean ने किया गुरुग्राम आधारित लांड्री सेवा 'Laundry Village' का अधिग्रहण

अपने एक ब्लॉग पोस्ट में Google ने अपने इस भविष्य की योजनाओं के बारे में जानकारी साझा करते हुए बताया कि,

“अब हम Allo में निवेश करने के बजाए अब SMS की तर्ज़ पर एक ऐसा मैसेज प्लेटफ़ॉर्म विकसित करने का प्रयास कर रहें हैं, जो सामान्य SMS सेवाओं से परे स्मार्ट रिप्लाई, GIF इत्यादि जैसी खूबियों से लैस होगी।

और इसलिए हम इसके निर्माण हेतु प्रयास कर रहें हैं और Allo को लेकर आगे के प्रयासों को रोक दिया है।”

Loading...

नई तकनीकों और विचारों के समायोजन को तलाशता मुसाफ़िर, जिसका मानना है कि उद्यमशीलता और प्रौद्योगिकी मिलकर ही विकास और विस्तार का अवसर प्रदान करतीं हैं | Founder & Editor-In-Chief (TechSamvad)
  • facebook
  • twitter
  • linkedIn
  • instagram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *