July 13, 2020
  • facebook
  • twitter
  • linkedin

Google खरीद सकता है Vodafone-Idea में 5% तक की हिस्सेदारी

सूत्रों की मानें तो Google ने Vodafone और Idea में हिस्सेदारी खरीदने का मन बना बना लिया है। बहुत मुमकिन है कि आगे आने वाले कुछ दिनों में यह करार आप सभी को प्रत्यक्ष रूप से देखने को मिलेगा। इस लॉकडाउन के दौरान कंपनियों ने एक दूसरे पर जमकर निवेश किया है और आगे आने वाले समय में यह सिलसिला जारी रहने वाला है।

टेलीकॉम कंपनियों का इस लॉकडाउन के दौरान निवेश जारी है। इससे पहले Facebook ने Jio से बड़ी हिस्सेदारी खरीद उसमें अपना निवेश किया था। और अब यह खबर आ रही है कि Google ने Vodafone और Idea में निवेश करने का मन बना लिया है। Vodafone और Idea ब्रिटिश कंपनी वोडाफोन और भारतीय मूल आदित्य बिड़ला समूह का ज्वाइंट वेंचर है। यह भारत में दूसरी सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी है।

आपको बताते चले कि Vodafone Idea की वर्तमान स्थिति कुछ ठीक नहीं चल रही है। कंपनी की वित्तीय हालात बिल्कुल खस्ता है और इसपर काफ़ी कर्ज भी है। अब इस निवेश के बाद से हालात कुछ ठीक हो जाए इसके कयास लगाए जा रहे है। अभी वर्तमान में Vodafone और Idea पर कुल AGR बकाया ₹58,254 करोड़ है जिसमें से इसने टेलीकॉम डिपार्टमेंट को पिछले महीने 3 किस्तों में करीब ₹6,854 करोड़ रुपए दिए है। कुल मिलाकर कंपनी पर अब करीब 52,000 करोड़ रुपए का बकाया है।

पिछले महीने Facebook ने करीब $5.7 मिलियन निवेश किया और Jio प्लेटफ़ॉर्म पर 9.99 प्रतिशत की हिस्सेदारी खरीदी। इससे पहले भी Jio प्लेटफ़ॉर्म पर KKR, Silver Lake, General Atlantic और Vista Equity Partners ने करीब $10 बिलियन का निवेश किया है।

आपको ज्ञात होगा कि पिछले 2 महीने से ज्यादा समय से पूरे देश में लॉकडाउन जारी है। ऐसी स्थिति में सारे लोग अपने अपने घरों में सुरक्षित रह रहे है। पिछले 2 महीनों में डेटा के उपयोग में काफी बढ़ोत्तरी देखी गई है। टेलीकॉम कंपनियां अपने ग्राहकों के लिए दिन प्रतिदिन कुछ न कुछ ऑफर लेकर आ रही है। इन दिनों कंपनियों का निवेश भी काफी बढ़ा है। अब देखना यह है कि आगे आने वाले समय में टेलीकॉम कंपनियां एक दूसरे से निवेश कर कहा तक फायदा कर पाती है।

सूत्रों की मानें तो Google ने Vodafone और Idea में हिस्सेदारी खरीदने का मन बना बना लिया है। बहुत मुमकिन है कि आगे आने वाले कुछ दिनों में यह करार आप सभी को प्रत्यक्ष रूप से देखने को मिलेगा। इस लॉकडाउन के दौरान कंपनियों ने एक दूसरे पर जमकर निवेश किया है और आगे आने वाले समय में यह सिलसिला जारी रहने वाला है।

टेलीकॉम कंपनियों का इस लॉकडाउन के दौरान निवेश जारी है। इससे पहले Facebook ने Jio से बड़ी हिस्सेदारी खरीद उसमें अपना निवेश किया था। और अब यह खबर आ रही है कि Google ने Vodafone और Idea में निवेश करने का मन बना लिया है। यह कहा गया है कि बहुत जल्द Google Vodafone-Idea में 5 प्रतिशत तक की हिस्सेदारी खरीदेगी। Vodafone और Idea ब्रिटिश कंपनी Vodafone और भारतीय मूल आदित्य बिड़ला समूह का ज्वाइंट वेंचर है। यह भारत में दूसरी सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी है।

आपको बताते चले कि Vodafone Idea की वर्तमान स्थिति कुछ ठीक नहीं चल रही है। कंपनी की वित्तीय हालात बिल्कुल खस्ता है और इसपर काफ़ी कर्ज भी है। अब इस निवेश के बाद से हालात कुछ ठीक हो जाए इसके कयास लगाए जा रहे है। अभी वर्तमान में Vodafone और Idea पर कुल AGR बकाया ₹58,254 करोड़ है जिसमें से इसने टेलीकॉम डिपार्टमेंट को पिछले महीने 3 किस्तों में करीब ₹6,854 करोड़ रुपए दिए है। कुल मिलाकर कंपनी पर अब करीब 52,000 करोड़ रुपए का बकाया है।

पिछले महीने Facebook ने करीब $5.7 मिलियन निवेश किया और Jio प्लेटफ़ॉर्म पर 9.99 प्रतिशत की हिस्सेदारी खरीदी। इससे पहले भी Jio प्लेटफ़ॉर्म पर KKR, Silver Lake, General Atlantic और Vista Equity Partners ने करीब $10 बिलियन का निवेश किया है।

इकनॉमिक टाइम्स ने अप्रैल में अपने रिपोर्ट में कहा था कि Vodafone Group AGR बकाया को चुकता करने के लिए फंड को ज्वाइंट वेंचर में डाल रही है। Vodafone करीब $200-225 मिलियन आगे ज्वाइंट वेंचर में डाल सकती है और बची हुई $125 -$150 मिलियन उसे JV Partners से आ सकते है जो कि कुमार मंगलम बिड़ला की निजी कंपनी है। यह साझेदारी प्राथमिक कैपिटल और रेडेंबल प्राथमिक शेयर के रूप में संभव है। दोनों कंपनियों के प्रवक्ताओं ने हालांकि Vodafone और Idea में किसी भी तरह के नए इक्विटी डालने की खबर को साफ़ इंकार किया है।

आपको ज्ञात होगा कि पिछले 2 महीने से ज्यादा समय से पूरे देश में लॉकडाउन जारी है। ऐसी स्थिति में सारे लोग अपने अपने घरों में सुरक्षित रह रहे है। पिछले 2 महीनों में डेटा के उपयोग में काफी बढ़ोत्तरी देखी गई है। टेलीकॉम कंपनियां अपने ग्राहकों के लिए दिन प्रतिदिन कुछ न कुछ ऑफर लेकर आ रही है। इन दिनों कंपनियों का निवेश भी काफी बढ़ा है। अब देखना यह है कि आगे आने वाले समय में टेलीकॉम कंपनियां एक दूसरे से निवेश कर कहा तक फायदा कर पाती है।

Abhinav Narayan is presently a student of Law from Amity Law School, Noida; and is a vastly experienced candidate in the field of MUNs and youth parliaments. The core branches of Abhinav's expertise lies in Hindi writing, he writes Hindi poems and is a renowned orator. He is currently the President of the Hindi Literary Club, Amity University.
  • facebook

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *