Zomato अगले महीनें हासिल कर सकता है 4,276 करोड़ रु. का निवेश: सीईओ & फाउंडर

ऑनलाइन फूड ऑर्डर डिलीवरी स्टार्टअप Zomato एक बार फ़िर से अपनी फंडिंग की ख़बरों की वजह से सुर्ख़ियों में है। हालाँकि इस बार अभी तक फंडिंग राउंड हो चुकने की कोई बात नहीं बल्कि एक बड़े फंडिंग राउंड होने की बात सामने आई है।

दरसल भारत में तेजी से अपना नाम कमाने वाली Zomato अब अगले महीनें तक 4,276 करोड़ रूपये ($600 मिलियन) का निवेश प्राप्त करने की तैयारी कर रही है। यह बात किसी सूत्र या रिपोर्ट के हवाले से नहीं बल्कि खुद कंपनी के सीईओ और संस्थापक दीपिंदर गोयल ने बयान के जरिये सामने आई है।

दरसल नई दिल्ली में एक कार्यक्रम में बोलते हुए, गोयल ने इस बात का जिक्र किया। इसके साथ ही कंपनी से जुडें कुछ आँकड़ो को सार्वजानिक करते हुए उन्होंने बताया कि Zomato अब भारत के 550 शहरों और कस्बों में मौजूद है और हर महीने 48 मिलियन लोग इसके ऐप पर खाना ऑर्डर करते हैं। 

वहीँ Zomato ने विदेशों में भी अपने बिज़नेस का काफी प्रसार किया है और भारत से बाहर भी अन्य 25 मिलियन ग्राहक Zomato की फ़ूड ऑर्डरिंग App का इस्तेमाल कर रहें हैं।

इसके साथ हो गोयल ने यह भी दावा किया कि पिछले 18 महीनों में Zomato ने 250,000 से अधिक लोगों को रोजगार प्रदान किया है। जैसा कि कंपनी आकार में तेजी से बढ़ रही है, ऐसे में संगठन में निरंतरता बनाए रखने की आवश्यकता भी महसूस की जाने लगी है।

और गोयल के अनुसार Zomato मैनेजमेंट हर वक़्त यह सुनिश्चित करता है कि परिचालन सुचारू रूप से चलता रहे।

आपको शायद याद हो हाल ही में Twitter पर छिड़े एक धार्मिक भेदभाव के मुद्दे पर Zomato ने अपना रुख स्पष्ट करते हुए, कंपनी के मूल्यों को काफ़ी सटीक तरीके से रखा था, हालाँकि उस पर भी कई सवाल उठे थे।

READ  देश में Ola, Uber जैसी कंपनियों में कर्मचारियों के लिहाज़ से 'वर्किंग कंडीशन' सबसे ख़राब

दरसल Zomato ने अपने ग्राहकों को स्पष्ट रूप से यह बताया कि वे अपने कर्मचारियों के साथ उनके धर्म के आधार पर भेदभाव नहीं करते हैं और इस अपने ग्राहक आधार को बनाये रखने के लिए कंपनी कभी इन मूल्यों से समझौता नहीं करेगी।

उस वक़्त गोयल ने एक बयान जारी कर कहा था कि कंपनी “आइडिया ऑफ इंडिया” पर गर्व करती है और किसी भी परिस्थिति में अपने बुनियादी मूल्यों से समझौता नहीं करेगी।

Loading...

नई तकनीकों और विचारों के समायोजन को तलाशता मुसाफ़िर, जिसका मानना है कि उद्यमशीलता और प्रौद्योगिकी मिलकर ही विकास और विस्तार का अवसर प्रदान करतीं हैं | Founder & Editor-In-Chief (TechSamvad)
  • facebook
  • twitter
  • linkedIn
  • instagram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *