June 2, 2020
  • facebook
  • twitter
  • linkedin

#PrivacyPlease: क्योंकि सब कुछ शेयर किया जाए, ये जरूरी नहीं!

‘PRIVACY IS A MYTH’, हाँ! काफ़ी पुरानी सी लाइन है, पर इस लाइन की एक बात दिलचस्प है, वो ये कि आज के हाई-टेक दौर में ये लाइन और ‘बड़ी’ व ‘डरावनी’ सच्चाई बनती जा रही है।

‘बड़ी’ इसलिए क्योंकि तेजी से लोग डिजिटल दुनिया को अपना रहें हैं, जो सही भी है, लेकिन ‘डरावनी’ इसलिए क्योंकि इस डिजिटल दुनिया में डेटा के गलत इस्तेमाल से जुड़ें पहलुओं को जानतें हुए भी लोग अपने ‘पर्सनल डेटा’ से समझौता करने को मजबूर हैं।

सही पढ़ा! ‘मजबूर’, और क्या कहें! आप खुद ही बताइए कब आख़िरी बार आपने अपनी मर्जी से किसी वेबसाइट या ऐप पर अपने मोबाइल नंबर आदि जैसी अहम जानकारी शेयर की थी? वो तो उस वेबसाइट/ऐप की सुविधाओं तक पहुँचने के लिए पहले अपनी इन डिटेल्स को देना अनिवार्य कर दिया गया था, इसलिए हम भले एक बार मन में थोड़ा मंथन करतें हैं, लेकिन अंत में कंपनी की शर्तों के आगे घुटने टेंक देते हैं।

यहाँ तक कि वेबसाइट/ऐप की डेटा प्राइवेसी वाली शर्तों के उन छोटे-छोटे शब्दों से भरें तमाम पन्नों को भी ‘कौन इतना पढ़े’ के तर्क तले कुचल आगे बढ़ जाना पड़ता है।

लेकिन कब तक हमें इन्हीं तर्कों के सहारे मजबूर किया जाता रहेगा या फिर कहें तो हमारी जरुरतों को पूरा करने वाली सुविधाओं की लालच में हमसे हमारी ही प्राइवेसी छीनी जाती रहेगी?

कुछ डिटेल्स अगर जरूरी हैं, तो वो देने में एतराज़ नहीं है, लेकिन बेवजह किसी भी डिटेल्स को ‘Mandatory’ का टैग दे देना, यही बात खटकती है। और नंबर जैसी डिटेल्स लेकर भी तो कंपनियाँ दूसरी कंपनियों को डेटा बेच, हमारे फोन में स्पैम कॉल्स और मैसेजों को ही तो बढ़वा दे रहीं हैं। और तर्क क्या है कि आपने हमारी कभी न पढ़ी जाने वाले ‘Privacy Policy’ के साथ ‘Agree’ जो किया है।

लेकिन क्यों नहीं हो सकता ऐसा कि जिसको देने में कोई हर्ज नहीं अपना डेटा सिर्फ़ वो ही तुम्हारी Privacy Policy से ‘I Agree’ कर जाए?

बाकी सबको एक ऑप्शन ‘Privacy Please’ का भी दिया जाए।

अगर आप हमारी बात से सहमत हैं तो कमेंट बॉक्स पर बताएं और शेयर करके अपने दोस्तों से भी पूछें! हक़ से कहें #PrivacyPlease

amicableashutosh@gmail.com'

नई तकनीकों और विचारों के समायोजन को तलाशता मुसाफ़िर, जिसका मानना है कि उद्यमशीलता और प्रौद्योगिकी मिलकर ही विकास और विस्तार का अवसर प्रदान करतीं हैं | Founder & Editor-In-Chief (TechSamvad)
  • facebook
  • twitter
  • linkedIn
  • instagram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *