July 3, 2020
  • facebook
  • twitter
  • linkedin

जल्द ही आप पूरी दुनिया में UPI के माध्यम से कर सकेंगें भुगतान

विदेश में यात्रा कर रहे भारतीय जल्द ही उत्पादों और सेवाओं के लिए भुगतान करने के लिए यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस (UPI) का उपयोग करने में सक्षम हो सकते हैं।

जी हाँ! UPI, जो एक नेशनल बैंक फंड ट्रांसफर मैकेनिज्म है और नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) द्वारा चलाया जाता है, एक स्मार्टफोन के माध्यम से तत्काल फंड सेटलमेंट की सुविधा प्रदान करता है।

लेकिन अब NPCI इसकी सीमाओं का प्रसार देश के बाहर भी करने की तैयारी कर था है। ET की एक रिपोर्ट के अनुसार NPCI अगले छह महीनों के भीतर इस सुविधा को पेश करने जा रहा है, जिसके तहत संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) और सिंगापुर जैसे देशों में फ़िलहाल शुरू की जा रही इस सुविधा के अंतर्गत भारतीय इन देशों में भी UPI पेमेंट के विल्कप का इस्तेमाल कर सकेंगें।

ET के अनुसार एक वरिष्ठ बैंकर ने कहा;

“इन दोनों देशों में पहले से ही Rupyee कार्ड पेमेंट मान्य है और अब NPCI का लक्ष्य UPI भुगतान को भी इन देशों में सक्रीय करने का है। इससे इन देशों में यात्रा करने वाले भारतीयों के लिए एक बड़ा फायदा होगा और अपने डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड की तरह UPI के माध्यम से भुगतान कर पायेंगें”

हालाँकि अभी तक NPCI ने इस बारे में अधिकारिक तौर पर कुछ भी कहने से इंकार किया है। वहीँ बैंकर ने कहा कि यह NPCI का एक वैश्विक भुगतान उत्पाद बनाने का प्रयास है जो UPI के इस्तेमाल से सक्षम बनाया जाएगा।

आपको बता दें कि UPI की तुलना में अब कार्ड भुगतान एक बड़ी चुनौती बनकर उभरा है, क्योंकि अधिक से अधिक व्यापारी UPI भुगतान स्वीकार करते हैं।

NPCI द्वारा साझा किए गए नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, सितंबर में UPI ने 955 मिलियन लेनदेन दर्ज किए। अगर भारतीय यात्री विदेशों में भी UPI का उपयोग कर पायेंगें, इस पेमेंट सिस्टम की स्वीकृति जाहिर तौर पर बढ़ेगी और यह आँकड़ा और भी ऊपर जा पायेगा।

आपको बता दें कि भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा गठित डिजिटल भुगतान पर नंदन नीलेकणी की अगुवाई वाली समिति ने सुझाव दिया था कि NPCI को अपने भुगतान प्रणाली जैसे कि UPI, Rupyee और BHIM के अंतर्राष्ट्रीय फुटप्रिंट का विस्तार करना चाहिए।

यह न केवल अंतर्राष्ट्रीय पेमेंट प्रणाली को भारतीयों के लिए आसान बनाने में मदद करेगा, बल्कि विदेश यात्रा करने वाले भारतीयों को इससे काफी सहूलियत होगी।

आपको बता दें कि Facebook, Google और Xiaomi जैसी बड़ी दिग्गज़ कंपनियों ने UPI पेमेंट जगत में प्रवेश करना शुरू कर दिया है, जिससे UPI भुगतानों के उपयोग को बढ़ावा दिया जा सकता है।

हालाँकि सबसे बड़ी चुनौती दूसरे देशों में व्यापारियों को ऑन-बोर्ड करने की होगी।

साथ ही अलग-अलग देशों में बैंकों के बीच समझौता भारतीय बैंकों के लिए उतना आसान नहीं है, उस जगह पर भी बहुत सारे काम करने की जरूरत होगी।

amicableashutosh@gmail.com'

Co-Founder & Editor-In-Chief
  • facebook
  • twitter
  • linkedIn
  • instagram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *