grofers

Times Group ने किया Grofers में 142.62 करोड़ रूपये का निवेश

Softbank समर्थित ऑनलाइन ग्रोसरी डिलीवरी कंपनी Grofers हाल के दिनों में अपने सीरीज़ एफ फंडिंग राउंड के अंतर्गत नया निवेश जुटाने को लेकर व्यस्त नज़र आ रही है।

जी हाँ! और अब कंपनी की कोशिशें नज़र भी आने लगी हैं। दरसल है Times Group के नाम से जानी जाने वाली Bennett and Coleman Private Limited (BCCL) ने अब Grofers में निवेश किया है।

सही सुना आपने कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय के अनुसार, 23 अक्टूबर को कंपनी ने इक्विटी शेयर के साथ-साथ BCCL को एक वारंट भी जारी किया।

इस रिपोर्ट के विवरण से पता चला है कि BCCL 13.05 लाख रूपये के एक इक्विटी शेयर पर करीब कंपनी में 142.62 करोड़ रूपये का एक वारंट उठाया है। आपको बता दें कि अपने एक स्पष्टीकरण में कंपनी ने इस वारंट को डिबेंचर के रूप में परिभाषित किया है।

वहीँ दिलचस्प बात यह है कि Times Group ने ने सितंबर में EdTech स्टार्टअप BYJUs में भी ऐसा ही मिलता-जुलता निवेश किया था और कंपनी में वारंट प्राप्त किये थे।

आपको बता दें वारंट एक वह अधिकार देता है जो खरीदने या बेचने के अधिकार के बिना इक्विटी हासिल करने की प्रक्रिया है। आसान भाषा में आपको बता दें कि यह एक तरीके से  निश्चित मूल्य पर Expiration के पहले तक के लिए इक्विटी ख़रीदने की एक प्रक्रिया है।

वहीँ इस बीच इस नए निवेश के साथ Grofers ने अब तक सभी फंडिंग राउंड में कुल $501.8 मिलियन का निवेश जुटा लिया है।

READ  IIM बैंगलोर और MSDE ने अधिकारियों के लिए लॉन्च किया Skill Fellowship Programme

इसके पहले अपने आखिरी सीरीज़ एफ फंडिंग राउंड में कंपनी ने Softbank के नेतृत्व में $200 मिलियन का निवेश Tiger Global और Sequoia Capital जैसे निवेशकों के साथ मिलकर हासिल किया था।

2013 में आईआईटी के पूर्व छात्रों अल्बिंदर ढींडसा और सौरभ कुमार द्वारा स्थापित, Gorfers किराने, फल और सब्जियों जैसे श्रेणियों में उत्पाद प्रदान करता है। यह 13 शहरों में संचालित है। कंपनी की योजना 2020 तक के मौजूदा 1,200 उत्पादों से अपने कैटलॉग को 1,500 तक विस्तारित करने की है।

कंपनी ने इस साल जून में दिल्ली-एनसीआर में ऑफलाइन स्टोर के साथ भी काम करना शुरू किया है। पहले चरण में कंपनी को 100 स्टोर मिले है। अब तक, इसने लगभग 300 स्टोर्स जो जोड़ा है और इसको 1000 तक करने की योजना है।

Gorfers बाज़ार में कुछ बड़े नामों जैसे BigBasket, Amazon Fresh, Flipkart SuperMart आदि के साथ प्रतिस्पर्धा करता नज़र आता है।

आपको बता दें कि Goldman Sachs की रिपोर्ट के अनुसार भारतीय ऑनलाइन किराना बाज़ार FY19 तक 270 करोड़ रूपये तक पहुंचने का अनुमान है, जो 2016 से 2022 तक 62% की CAGR से बढ़ रहा है।

Loading...

नई तकनीकों और विचारों के समायोजन को तलाशता मुसाफ़िर, जिसका मानना है कि उद्यमशीलता और प्रौद्योगिकी मिलकर ही विकास और विस्तार का अवसर प्रदान करतीं हैं | Founder & Editor-In-Chief (TechSamvad)
  • facebook
  • twitter
  • linkedIn
  • instagram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *