May 31, 2020
  • facebook
  • twitter
  • linkedin

भारत में WeWork करेगा अगले महीनें तक करीब 100 कर्मचारियों की छंटनी

इस कोरोना महामारी की वज़ह से न सिर्फ जन जीवन अस्तव्यस्त हुआ है बल्कि लोगों पर अब अपनी नौकरी जाने का भी खतरा मंडराने लगा है। एक एक करके कई सारी कंपनियों ने अपने कर्मचारियों को निकालना शुरू कर दिया है। अब इसी कड़ी में अगला नंबर WeWork India का है।

Embassy Group स्वामित्व वाली कंपनी WeWork India, जो की Co-working की मुख्य धारा है ने यह ऐलान किया कि अगले जून के महीने से वह कुल 500 कर्मचारियों में लगभग 20 प्रतिशत कर्मचारियों को बाहर का रास्ता दिखाएगी। सूत्रों का कहना है कि इसकी मुख्य वजह कोरोना महामारी की वजह से कारोबार पर बुरा असर बताया जा रहा है।

WeWork के सीईओ करण विरवानी ने कहा कि हमलोगों ने अपने कर्मचारियों को बातचीत कर के इसकी जानकारी दे दी है। सूत्रों के हवाले से खबर आई है कि इस फ़ैसले के बाद से लगभग 100 कर्मचारी इससे प्रभावित होने वाले है।

सूत्रों के हवाले से यह भी खबर आई है कि कंपनी नोटिस के अवधि का सम्मान करते हुए कर्मचारियों के लिए विशेष पैकेज की भी सुविधा प्रदान करेगा। कंपनी ने यह भी ऐलान किया कि इस साल के अंत तक कर्मचारियों की चिकित्सा बीमा जारी रखेगी और अपने Co-Working केंद्रों को अपने जीवनकाल में दो महीने तक मुफ़्त में इस्तेमाल कर सकते है।

उन्होंने यह भी कहा कि हमने मुख्य व्यवसाय को आधार मानकर अपनी टीम की ताकत को अनुकूलित और नियोजित किया है, क्योंकि हम भारत में अपनी दीर्घकालिक व्यापार रणनीति को क्रियान्वित करना जारी रखना चाहते और 2021 की शुरुआत तक हम इस व्यापार को और बड़ा करने के साथ साथ फायदेमंद बनाने का लक्ष्य रखते हैं। हमने अपने व्यवसाय की प्राथमिकताओं को प्रतिबिंबित करने के लिए कुछ कार्यों और शर्तों के साथ इसे सदस्य केंद्रित दृष्टिकोण प्रदान करने का लक्ष्य बनाया है।

अपने पत्र में विरवानी ने लिखा कि बीते हुए कुछ महीनों में कंपनी को काफी दिक्कतें आयी है। उन्होंने यह भी कहा कि हमलोगों का पहला लक्ष्य है कि अभी तत्काल कारोबार की कीमत और निवेश में कमी लेना साथ ही साथ मौजूद इमारतों से ज्यादा से ज्यादा मात्रा में आमदनी करना। इसके लिए हमलोगों को कंपनी में मूलभूत परिवर्तन लाकर कारोबार की रणनीति पर केन्द्रित करना होगा।

WeWork India पूरे भारत में 34 जगहों पर क़रीब 57,000 डेस्क उपलब्ध है। इनमें दिल्ली एनसीआर, मुंबई, बेंगलुरु, पुणे और हैदराबाद आदि स्थान प्रमुख है। प्रति माह करीब ₹5000 से लेकर ₹40,000 तक के डेस्क उपलब्ध है। इस कोरोना महामारी की वजह से पिछले कुछ सालों में तेज़ी से अपने कारोबार को बढ़ाने वाले Co-working सेगमेंट को भी भारी नुकसान का सामना करना पड़ा है। फ्रीलांसिंग, स्टार्टअप आदि जैसे उभरते हुए व्यवसाय इससे काफी प्रभावित हुई है। हर सेक्टर पर बुरा मार देखने को मिल रहा है।

Abhinav Narayan is presently a student of Law from Amity Law School, Noida; and is a vastly experienced candidate in the field of MUNs and youth parliaments. The core branches of Abhinav's expertise lies in Hindi writing, he writes Hindi poems and is a renowned orator. He is currently the President of the Hindi Literary Club, Amity University.
  • facebook

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *