August 4, 2020
  • facebook
  • twitter
  • linkedin

NPCI ने WhatsApp को कहा, “पेमेंट सेवा के लांच से पहले Policy में कीजिए अहम बदलाव”

जैसा कि हम आपको बता चुकें हैं कि WhatsApp ने एक बार फ़िर साल के अंत तक भारत में अपनी पेमेंट सेवाओं के लॉन्च की बात दोहराई है। लेकिन अब उसको नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) की तरफ से जवाब भी मिला है।

दरसल नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) ने WhatsApp को पेमेंट संबंधी सेवाओं की मंजूरी से पहले अपनी नीतियों में बदलाव करने को कहा है। हम आपको बता दें कि WhatsApp ने अपने एकीकृत भुगतान इंटरफेस (UPI) संबंधी WhatsApp Payment को लॉन्च करने के लिए नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) से मंजूरी माँगी। 

लेकिन अब NPCI ने Facebook के स्वामित्व वाली इस कंपनी क अंतिम मंजूरी देने से पहले अपनी नीति में बदलाव करने के लिए कहा है। दरसल NPCI ने मैसेजिंग ऐप, WhatsApp को अपने डेटा-अनुपालन ढांचे में बदलाव करने के लिए कहा है, जिससे भारत के बाहर भुगतान डेटा को स्टोर करने पर रोक लगाई जा सके।

हालाँकि इस बीच अभी तक WhatsApp की तरफ से कोई भी प्रतिक्रिया नहीं आई है। हम आपको बता दें कि भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने भुगतान सेवा प्रदाताओं और तीसरे पक्ष के भुगतान ऐप को केवल भारत में प्रमुख भुगतान डेटा संग्रहीत करने संबंधी निर्देश दिए हैं।

RBI ने 6 अप्रैल, 2018 को जारी अपने ‘स्टोरेज ऑफ पेमेंट सिस्टम डेटा’ निर्देश के संदर्भ में कहा था; 

“पूरे भुगतान डेटा को केवल भारत में स्थित प्रणालियों में संग्रहीत किया जाएगा।”

दिशानिर्देशों में यह भी विस्तार से बताया गया है कि यदि डेटा को विदेश में स्टोर किया जाता है, तो इसे विदेश से हटा कर 24 घंटे के भीतर भारत वापस लाया जाना चाहिए।

RBI के UPI भुगतान निर्देश “ग्राहकों और उपयोगकर्ताओं के हितों की रक्षा” करने का एक प्रयास है। और साथ ही यह सुनिश्चित करने का भी कि ऑनलाइन भुगतान मोड के माध्यम से किसी भी लेनदेन को सुरक्षित बनाया जा सके ।

amicableashutosh@gmail.com'

Co-Founder & Editor-In-Chief
  • facebook
  • twitter
  • linkedIn
  • instagram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *