August 7, 2020
  • facebook
  • twitter
  • linkedin

हिंसक और भड़काऊ वीडियो वाले चैनलों को बंद करेगा YouTube

  • by Yogesh
  • June 7, 2019

गूगल (Google) के स्वामित्व वाले यूट्यूब (YouTube) ने हाल ही में घोषणा की है कि वह नस्लवाद और भेदभाव को बढ़ावा देने वाले या उनका महिमामंडन करने वाले वीडियो पर प्रतिबंध लगाया जाएगा।

बता दें कि आजकल सोशल मीडिया (Social media) और इंटरनेट (internet) के जरिए लोगों के वॉट्सऐप ग्रुप (Whatsapp Group) में हिंसा के वीडियो प्रसारित किए जाते हैं। सोशल मीडिया (Social media) प्लेटफॉर्म पर भी ऐसी चीजें देखने को मिल जाती हैं। लेकिन अब इनके खिलाफ कई इंटरनेट कंपनियां (Internet companies) कमर कस रही हैं।

यूट्यूब (YouTube)ने बुधवार को कहा कि वह यहूदी नरसंहार या सैंडी हूक स्कूल गोलीबारी जैसी दस्तावेजों से प्रमाणित हिंसक घटनाओं को नकारने वाले वीडियो पर भी रोक लगाएगा। वीडियो शेयरिंग प्लेटफॉर्म (Video sharing platform) यूट्यूब (YouTube)के द्वारा इस कदम की घोषणा करना सराहनीय प्रयास है। इस फैसले से घृणा और हिंसा वाली सामग्री को हटाने में आसानी होगी।

हाल ही में यूट्यूब (YouTube) ने बयान जारी कर कहा कि,

” यूट्यूब (YouTube) में हमेशा नियमों का पालन होता है, जिसमें अभद्र भाषा के खिलाफ एक लंबी नीति भी शामिल है, आज हम खास तौर पर लिंग, जाति, धर्म के आधार पर भेदभाव को बढ़ावा देने वाले वीडियो पर प्रतिबंध लगाकर अपनी नीति में एक और कदम जोड़ रहे हैं।”

गौरतलब है कि पिछले महीने न्यूजीलैंड में एक मस्जिद में आतंकी हमले की लाइवस्ट्रीमिंग (Live streaming) की गई थी। इसके बाद पेरिस में तमाम नेताओं ने चरमपंथ पर अंकुश लगाने के लिए ऐसे कदम उठाने का आग्रह किया था।

यूट्यूब (YouTube) ने कहा है कि इस नीति को बुधवार से ही लागू कर दिया गया है। लेकिन इसके पूरी तरह से प्रभावी होने में कई महीने का वक्त लगेगा। यूट्यूब (YouTube)  ने कहा कि शोधार्थियों के लिए ऐसे कंटेंट उपलब्ध कराने के लिए वह नए तरीके खोजेगा। लेकिन इस कदम से उन चैनलों को हटाया जाएगा जो पैसे के लिए ऐसी हिंसक सामग्री को अपलोड करते हैं।

बता दें कि इस साल की शुरुआत में फेसबुक (Facebook) ने भी घोषणा की थी कि वह हेट स्पीच (Hate speech), श्वेत राष्ट्रवाद और श्वेत अलगाववाद के समर्थन पर प्रतिबंध लगाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *